Maa Madvarani Devi, Korba | Mor Chhattisgarh

0

माँ मड़वारानी मंदिर पहाड़ की चोटी पर स्थित है देवी का मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा जिले में है यहाँ के मूलनिवासियो के द्वारा माँ मड़वारानी की आराधना की जाती है माँ मड़वारानी मंदिर घने पर्वतो में फूलो एवं फलदार वृक्षों से अच्छादित है माँ मड़वारानी मंदिर ,मड़वारानी पहाड़ की चोटी पर कलमी पेड़ के नीचे स्थित है पहाड़ में पशु पक्षियों भालू, बंदर आदि को विचरते देखा जा सकता है  ऐसा माना जाता है क़ि माँ मड़वारानी अपने शादी के मंडप (मड़वा) को छोड़ कर आ गयी थी | इसी दौरान बरपाली-मड़वारानी रोड में उनके शरीर से हल्दी एक बड़े पत्थर पर गिरी और वह पत्थर पीला हो गया | माँ मड़वारानी के मंडप से आने के कारण गाँव और पर्वत को मड़वारानी के नाम से जाना जाने लगा | दूसरी प्रसिद्ध कहानी यह है कि माँ मड़वारानी भगवान शिव से कनकी मे मिली एवं मड़वारानी पर्वत पर आई | माँ मड़वारानी संस्कृत में “मांडवी देवी” के नाम से जानी जाती है | यह माना जाता है क़ि कुछ ग्राम वासियों द्वारा देखा गया कि कलमी वृक्ष एवं उसके पत्तियों में हर नवरात्रि को जवा उग जाता है और एक सर्प उसके आस पास विचरण करता है और आज भी कभी-कभी दिखाई पड़ता है | ऐसा माना जाता है कि एक दूसरे कलमी पेड़ में मीठे पानी का श्रोत था जो हमेशा बहता रहता था | पर एक दिन एक ग्रामीण पानी लेते समय अपना बर्तन खो दिया और उसने पेड़ को काटकर देखा पर उसे अपना बर्तन नहीं मिला |




Leave A Reply

*